महत्वपूर्ण टिप्स


पांच सेमी छोड़ें
आन्सरिंग शीट के दोनों ओर पांच सेमी तक जगह छोड़नी चाहिए।
भूमिका जरूर लिखें
बड़े प्रश्नों के उत्तर की शुरूआत भूमिका से करें। भूमिका आठ-नौ लाइनों से ज्यादा न हो।
फाॅर्मूले करें शामिल
मैथ्स के उत्तर में फाॅर्मूले से शुरूआत की जानी चाहिए। फाॅर्मूले के फैक्टर्स के परिणाम (जो कि सवालों में दिए गए हों) और जिस फैक्टर की वैल्यू निकालनी है, उनका उल्लेख जरूरी है।
कैमिस्ट्री में समीकरण
कैमिस्ट्री में महत्वपूर्ण समीकरणों का इस्तेमाल करना भी जरूरी है। मैथ्स, कैमिस्ट्री में फाॅर्मूले और समीकरणों के अंक निर्धारित होते हैं। इसलिए उत्तर गलत होने पर भी कुछ नंबर तो मिल ही जाते हैं।
लाॅन्ग आॅन्सर में कोटेशंस
लंबे उत्तरों में प्रमुख विद्वानों, विचारकों समाजशास्त्रियों आदि के कोटेशंस देने चाहिए। इससे आपकी तैयारी और समझ का पता चलता है।
तोड़ें-मरोड़ें नहीं
सवाल से मेल न खाने वाले उदाहरण के जरिए उन्हें तोड़-मरोड़ कर पेश करने का प्रयास न करें।
60 प्रतिशत तर्कशक्ति ,40 प्रतिशत शैली
उत्तर का मूल्यांकन 60 प्रतिशत तर्कशक्ति और 40 प्रतिशत शैली पर निर्भर करता है।
प्रैक्टिकल में चित्र
प्रैक्टिकल सवालों में चित्र के 40 प्रतिशत नंबर होते हैं। मगर गैर जरूरी चित्र का कोई फायदा नहीं होता, चित्र साफ सुथरा होना चाहिए। नाम, प्रणाली, कार्यविधि, प्रक्रिया आदि पैंसिल से जरूर लिखें।
स्टार्ट इम्प्रेसिव बनाएं
लंबे उत्तर में एग्जामिनर के पास ज्यादा समय न होने की वजह से कछ चीजें पढ़कर ही उत्तर का मूल्यांकन किया जाता है। शुरूआत ऐसी हो कि पढ़कर जानकारी का पता लग जाए।
प्रश्नों का चुनाव
कई बार 10-12 सवालों में से 8-9 करने होते हैं। ऐसे में उनकी चुनें जो अच्छी तरह आते हों।
गलत आंकड़े न हों
पेपर में गलत, भ्रमित करने वाले आंकाड़ों का प्रयोग न करें।
भाषा अपनी हो
वाक्य रचना में अपनी भाषा का प्रयोग करें।
बड़े उत्तर से बचें
बड़े स्टूडेंट ज्यादा लिखने से ज्यादा माक्र्स आने में विश्वास रखते हैं। लेकिन इससे वे प्रश्न के मुख्य मकसद से हट जाते हैं। जो पूछा हो उसी का उत्तर दें।
शाॅर्ट ट्रिक्स
मैथ्स के कई सवाल शाॅर्ट ट्रिक्स के आधार पर चुटकियों में हल किए जा सकते हैं।
एग्जामिनेशन हाॅल में
डेस्क के आस-पास चैक करें कि कोई कागज आदि न हो। पेपर मिलने पर पहले अच्छी तरह पढ़ लें और जो प्रश्न आसान लगें उन्हें टिक कर लें। आसान प्रश्नों को पहले हल करें। शब्द, अंक और समय सीमा का ध्यान रखकर पेपर हल करें। आन्सर बुक में ज्यादा काट-छांट नहीं करनी चाहिए। कोई भी उत्तर लिखने से पहले प्रश्न नंबर ठीक लिखें और एक बार फिर से चेक भी कर लें। अगर कोई प्रश्न हल न हो पाएं, तो उसके लिए पर्याप्त जगह छोड़ दें और दूसरा उत्तर कर लें। उसके लिए ज्यादा समय वेस्ट न करें। अंत में कुछ समय आन्सर शीट चैक करने के लिए रखें।

मेघवंशी - मेघवाल समाज

All India Meghwal Samaj, Rajasthan Meghwal Samaj, Megs of Rajasthan, Meghwal Samaj, Meghwal Society Rajasthan, Rajasthan Meghwal Parishad, Rajasthan Meghwal Samaj Bilara Jodhpur, Meghwal Samaj Brides and Grooms, Meghwal Samaj Matrimonial