मेघ वंदना


वस्त्रहीन थे आदिमानव, वृक्ष छाल लिपटाई,
जंगली गुफाएं पेड़ों के वासी, मानुषता


धन्य धन्य उपकार तुम्हारा, ऐसी विधि अपनाई,
हथचरखा से वस्त्र बनाया, मेघ-ऋषि अनुयायी।। 2।।


सत्य, अहिंसा और शालीनता, मेघों की परछाई,
मिलनसार, गुणवान, मेधावी, सन्तोषी स्वाध्यायी।।


जय जय जयकार तुम्हारी, विश्व कल्याण सुहाई,
हथचरखा से वस्त्र बनाया, मेघ-ऋषि अनुयायी।। 4।।


नैतिकता और नेक कमाई सुसंस्कृति अपनाई,
मानवता के भाव भिगोकर, हर घर खुशहाली छाई।।


मानव धर्म की रक्षा कीन्ही, जाति वर्ण मिटाई,
हथचरखा से वस्त्र बनाया, मेघ-ऋषि अनुयायी।। 6।।


स्वर्ग नरक है इस जीवन में, परलोक कहां से आई,
इधर से जाते देखे सभी को, उधर से आया न कोई।। 7।।


सदाचार सदा सुखदायी, दुराचरण दुखदाई,
हथचरखा से वस्त्र बनाया, मेघ-ऋषि अनुयायी।।


कलियुग में है संघे शक्ति , युग पुरूषों ने बताई,
इस जीवन में सत्य कर्म कर, मेघदूत बन भाई।। 9।।


ज्ञान बोझ है बिन प्रयोग, धैर्य धर क्रोध बुझाई,
हथचरखा से वस्त्र बनाया, मेघ-ऋषि अनुयायी।।


यथा शक्ति से परोपकार कर, भय और भूख मिटाई,
भाग्य भरोसे रहे न कोई, खुद दीपक बन जाई।।


पुनर्जन्म छोड गौड़ अब, मेघ वन्दना गाई,
हथचरखा से वस्त्र बनाया, मेघ-ऋषि अनुयायी।। 12।।

मेघवंशी - मेघवाल समाज

All India Meghwal Samaj, Rajasthan Meghwal Samaj, Megs of Rajasthan, Meghwal Samaj, Meghwal Society Rajasthan, Rajasthan Meghwal Parishad, Rajasthan Meghwal Samaj Bilara Jodhpur, Meghwal Samaj Brides and Grooms, Meghwal Samaj Matrimonial